RCDF में भ्रष्टाचार जारी:6 श्रेणी के पदों का रिजल्ट जारी नहीं और अभ्यर्थियों को इंटरव्यू का कॉल

Spread the love

राजस्थान काे-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के संघों में विभिन्न श्रेणी में 586 पदाें पर सहकारिता भर्ती बाेर्ड की ओर से आयोजित परीक्षा में नया विवाद सामने आया है। बाेर्ड ने पहले ताे बिना कटआफ जारी किए ही पदाें की संख्या से डेढ़ गुना अधिक अभ्यर्थियों को दस्तावेज वेरिफिकेशन के लिए बुला लिया। अब बाकी 6 श्रेणी के पदाें के लिए भी गुपचुप तरीके से पदाें की क्षमता से डेढ़ गुना अभ्यर्थियों काे साक्षात्कार के लिए बुलावा भेज दिया।

इनके रिजल्ट 11 एवं 12 नवम्बर की तारीख में जारी करके 13 नवम्बर काे वेबसाइट पर डाले गए हैं। इसमें जल्दबाजी में डिप्टी मैनेजर के रिजल्ट में असिस्टेंट मैनेजर लिख दिया गया है। हालत यह है कि 25 श्रेणी में आयोजित परीक्षा में से किसी की भी कटऑफ जारी नहीं की गई है। उल्लेखनीय है कि जिन अभ्यर्थियों को मेरिट के आधार पर दस्तावेज वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया है, उनके भी अंक जारी नहीं हुए हैं। जारी सूची में दसवीं और बारहवीं और ग्रेजुएशन के ही अंक दर्शाया गए हैं। ऐसे में रिजल्ट जारी नहीं होने से बोर्ड पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। कटऑफ जारी नहीं करने से 1.25 लाख अभ्यर्थी अधर में हैं।

चेयरमैन नहीं कराना चाहते थे बाेर्ड से भर्ती
डेयरी संघों के चेयरमैन सहकारिता भर्ती बाेर्ड से परीक्षा का आयोजन कराने पर सहमत नहीं थे। इसे लेकर आरसीडीएफ और डेयरी चेयरमैनों के बीच में विवाद भी हुआ था। चेयरमैन भर्ती डेयरी संघ के स्तर पर एनडीडीबी से कराना चाहते थे। अब कटऑफ जारी नहीं करने पर डेयरी चेयरमैनों ने भर्ती बाेर्ड पर सवाल खड़े किए हैं। चेयरमैनों का आराेप है कि बाेर्ड के अध्यक्ष जीएल स्वामी हैं, जाे तत्कालीन आरसीडीएफ एमडी केएल स्वामी के भाई हैं। इस वजह से भर्ती प्रक्रिया में गड़बड़़ी हाेने की संभावना है। सरकार काे इसकी पूरी जांच करानी चाहिए।

जूनियर एकाउंटेंट के 3 पदाें के लिए एक ही रूम के 9 लाेगों को इंटरव्यू में बुलाया
सहकारिता भर्ती बाेर्ड की ओर से आयोजित डेयरी संघों में नियुक्ति के लिए हुई परीक्षा पर सवाल खड़े हाे गए हैं। बाेर्ड ने जूनियर एकाउंटेंट के 3 पदाें के लिए भर्ती परीक्षा की है। इसमें साक्षात्कार के लिए पांच गुना के हिसाब से 15 लाेगाें काे साक्षात्कार के लिए बुलाया है। इसमें 9 लाेग ताे वे शामिल हैं, जिनकी एक ही रूम में परीक्षा हुई है। इनके राेल नंबर 1460000261, 63, 65,66,67,69,73,74 और 75 हैं। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि एक ही रूम के 9 लाेगाें के नंबर एक लेवल में कैसे आ सकते हैं?

बाेर्ड रिजल्ट के साथ कटआफ जारी करता ताे बेहतर हाेता। कटआफ जारी हाेने से बेरोजगार अभ्यर्थियों काे पता चल जाता की उनके कितने नंबर आए हैं। इससे पारदर्शिता बनी रहती। कटऑफ जारी नहीं करना कई सवालों को पैदा करता है। -रामलाल जाट, चेयरमैन भीलवाड़ा डेयरी

आरसीडीएफ काे भर्ती कराने के लिए स्वीकृति जारी कर दी थी। भर्ती काेई भी हाे, उसमें पारदर्शित रहनी चाहिए। ताकि काेई सवाल नहीं उठा सके। –रामचंद्र चाैधरी, चेयरमैन, अजमेर डेयरी

Report : Dainik Bhaskar


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *